Thursday, 10 May 2007

कबूतारबाजों के देश में ।

चंद्रकांता धारावाहीक में हमेशा देखते थे कबूतर को प्यार के संदेश देते हुए । कबूतर हमेशा ही राजकुमारियों ओर राज्कुमारो के प्रेमपत्र पहुंचाते रहे । इसी बीच कब ये कबूतर अपने साथ इंसानों को जोड़ लिए ये पता ही नही चला . अचानक एक दिन नींद खुली ओर जब तव को ओं किया तो पुरा हंगामा मचा था . कबूतरों से जुडी कोई खबर लगातार फ्लश ओर न्यूज़ मे चल रही थी ।

बार-बार एक शब्द उपयोग हो रहा था कबूतरबाज । दिमाग मे ये बात फीट नही हो पा रही थी कि आख़िर ये कबूतरों कि कौन सी प्रजाति है । ध्यान से देखने पर पता लगा कि कोई अपने नेता जी है । किसी और कि बीवी ओर बच्चे को अपना बताकर विदेश छोड़ने जा रहे थे । भाई ये हुई ना बात कबूतर तो सिर्फ प्यार का संदेश पहुचने का काम करते थे आप तो उनसे भी आगे निकल पडे । आप तो लोगो को उनके प्यार तक पहुचाने के लिए सात समुन्दर पार तक छोड़ने जा रहे हो । और यही नही ये तो आपका धंधा भी बन चला है । भईया ये तो आपका मिशन है । अब ये तो आपकी बद्दप्पन है वर्ना समाजसेवा कर पुलिस के बहुपाश मे बंधने का जोखिम कौन लेता है । ये समाजसेवा तो सब करते है लेकिन पकड़े जाने वाले तो बस्स एक आप हुए और एक अपने वो बल्ले-बल्ले संगीतकार दलेर मेहंदी साहब । वो तो आप लोग पकड़े गए नही तो आप लोग कहॉ सामने आते है । आप तो बस 'नेकी कर और दरिया मे डाल' वाली निति पर काम करते है ।

हमारी तो दुआ है आप लोग (कबूतारबाज़ लोग) यूहीं समाजसेवा करते रहे । आख़िर आप ही लोग तो अब कबूतरों को टक्कर देने कि स्थिति मे है । यूं भी वो तो सिर्फ ख़त पहुँचा सकते थे अप्प तो ख़त लिखने वालों को भी पहुचने कि छमता रखते हो ।..बल्ले-बल्ले..

2 comments:

संजय बेंगाणी said...

क्या बात है? वाह!!

Shrish said...

हिन्दी चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है। नियमित लेखन हेतु मेरी तरफ से शुभकामनाएं।

नए चिट्ठाकारों के स्वागत पृष्ठ पर अवश्य जाएं।

किसी भी प्रकार की समस्या आने पर हम आपसे सिर्फ़ एक इमेल की दूरी पर है।

ई-पंडित