Sunday, 28 December 2008

चलो अमेरिका की बेरोजगारी ख़त्म हो गई...

जबसे विश्व बहुध्रुवीय व्यवस्था की ओर बढ़ने लगा था तब से अमेरिकी कूटनीति में भी मंदी दिखाई दे रही थी. चीन के बढ़ने और मजबूत होने से एशिया में उसकी दादागिरी बंद हो गई थी और अफ्रीका वालों ने भी उसे इधर ज्यादा मौका नहीं दिया था. लेकिन जब से मुंबई में हमले हुए हैं और भारत-पाकिस्तान अपना हथियार भांज रहे हैं. तबसे अमेरिकी कूटनीति की बेरोजगारी ख़त्म होने के संकेत दिखने लगे थे और इधर इस्रायेल ने गाजा पट्टी में हमला शुरू कर अमेरिका को और उसके यहाँ की राजनयिक कौम को फ़िर से मालामाल होने का मौका दे दिया है. लंबे समय से आर्थिक मंदी से जूझ रहा अमेरिका इस मौसम में हथियार बेचकर अपनी हालत सुधार सकता है.....

1 comment:

Amit said...

bahut sahi kaha bhai...