Wednesday, 14 November 2007

अब... बुद्धदेब को कोई हिटलर क्यों नहीं कहता!

'जैसा किया वैसा ही पाया' नंदीग्राम में हो रही हिंसा पर पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्धदेब साहब का यही ताजा बयान है। याद करिये गुजरात दंगे का वक्त जब मोदी ने यही कहा था, सारे देश के तथाकथित विद्वानों ने मोदी को हिटलर कहा । कहाँ है आज वो सारे दिग्गज, वी आज बुद्धदेब को हिटलर के खिताब से क्यों नहीं नवाजते।

अब पढिये बुद्धदेब साहब का बयान. पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्धदेब भट्टाचार्य ने नंदीग्राम में सीपीएम कार्यकर्ताओं का बचाव करते हुए कहा है कि उन्होंने जो किया वह उन पर की गई कार्रवाई का जवाब था। कोलकाता में एक पत्रकारवार्ता में उन्होंने कहा कि नंदीग्राम में पहले तृणमूल कांग्रेस के हथियारबंद कार्यकर्ताओं ने सीपीएम कार्यकर्ताओं पर हमले किए थे और उन्होंने 'जैसा किया था वैसा ही पाया'।

मुख्यमंत्री ने उल्टा केन्द्र को ही दोषी ठहराते हुए कहा कि यदि केंद्र सरकार नंदीग्राम में पहले ही केंद्रीय बल भेज देती तो यह सब नहीं होता। बुद्धदेब भट्टाचार्य का कहना है कि उन्होंने केंद्र सरकार से 27 अक्तूबर को सीआरपीएफ़ भेजने की माँग की थी जबकि सरकार ने 12 नवंबर को केंद्रीय बल भेजा.
उन्होंने कहा, "यह मेरी विफलता नहीं है, अगर केंद्र सरकार समय पर जवान भेज देती तो हम इस स्थिति को टाल सकते थे.

2 comments:

आशीष said...

दोस्त बुद्धदेब और मोदी में अब कोई अन्तर नही रहा

अनुनाद सिंह said...

बुद्धदेव की तुलना मोदी से नहीं की जा सकती। मोदी विकास पुरुष हैं, बुद्धदेव (और ज्योति बसु) पिछड़ेपन के प्रतीक हैं।

जो नन्दीग्राम में हो रहा है वह कोई नयी चीज नहीं है। नया यह है कि लाख कोशिश करके भी कम्युनिस्ट यह कुकृत्य छिपा नही पाये।